दुल्हन बनने से पहले महिला दरोगा ने खा लिया जहर, मरने से पहले सिपाही बॉयफ्रेंड को फोन करके कही ये बात…

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक महिला दरोगा ने अपने घर में जहर खाकर जान दे दी. वह पटना के श्रीकृष्णानगर की रहने वाली थी. ट्रेनिंग के बाद 21 जून को उसकी साइबर थाना में पोस्टिंग हुई थी. गुरुवार अल सुबह दरोगा ने अपनी मां को फोन किया. उनसे एक घंटे तक बात की. इसके बाद अपने बॉयफ्रेंड को फोन किया जो कि खुद भी एक कांस्टेबल है. दरोगा ने अपने बॉयफ्रेंड को फोन करके बताया कि उसने जहर खा लिया है.

बॉयफ्रेंड ने तुरंत महिला दरोगा के परिजनों को इसकी सूचना दी. इसके बाद मिठनपुरा पुलिस के साथ दीपिका के आवास पहुंच उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया. इसके बाद उसके माता-पिता और भाई भी पहुंचे. लेकिन इलाज के दौरान महिला दरोगा की मौत हो गई. महिला दरोगा की खुदकुशी के बाद पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है.

जानकारी के मुताबिक, साइबर थाना में तैनात 2020 बैच की प्रशिक्षु दारोगा दीपिका कुमारी (28) ने गुरुवार सुबह 7 बजे जहर खाकर सुसाइड कर लिया. उसने जहर खाने के बाद अपने बॉयफ्रेंड रोहित सिंह को कॉल किया. इसके बाद उसे अस्पताल पहुंचाया गया. लेकिन दीपिका ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. जहर खाने से एक घंटा पहले दीपिका ने मां संगीता देवी से मोबाइल पर बात की थी. मां ने बताया कि वह डिप्रेशन में लग रही थी.

सिटी एसपी ने कहा कि उन्होंने दीपिका के शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है. शुरुआता जांच में मामला आत्महत्या का लग रहा है. लेकिन फिर भी उसके मोबाइल फोन को जांच के लिए भिजवा दिया गया है. पुलिस का कहना है कि मोबाइल से कई जानकारी मिल सकती है. क्या सच में यह सुसाइड है या कुछ और. इस बारे में पता लगाया जा रहा है.

ऑटो चलाते हैं, बहनें भी करती हैं नौकरी

दीपिका के पिता राजनंदन प्रसाद पटना में ऑटो चलाते हैं. बेटी के दरोगा बनने से वह काफी खुश थे. वो बेटी की शादी की तैयारी कर रहे थे. उन्होंने बताया कि दीपिका चार बहन व एक भाई में तीसरे नंबर पर थी. दीपिका बड़ी बहन गृह विभाग दिल्ली में स्टेनो के पद पर कार्यरत है. छोटी बहन झारखंड मिलिट्री पुलिस में थी. उसने दो साल पहले रिजाइन कर दिया था. छोटा भाई सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहा है. पिता ने बताया कि दीपिका कहती थी सचिवालय में नौकरी के बाद ही शादी करेगी.

दरोगा बनने से पहले थी कांस्टेबल

पिता ने बताया कि दीपिका दारोगा बनने से पहले सिपाही थी. वह मुजफ्फरपुर स्थित शहीद खुदीराम बोस केंद्रीय कारा, रोसड़ा जेल और हाजीपुर जेल में सिपाही के रूप में ड्यूटी कर चुकी थी. शहीद खुदीराम बोस केंद्रीय कारा में तैनात रोहित के साथ वह हाजीपुर जेल में भी ड्यूटी की थी. उस दौरान ही उनकी मित्रता हुई थी. रोहित का उनके घर आना-जाना भी था. इस मामले में पुलिस रोहित से भी पूछताछ कर रही है. मामले में जांच जारी है.

मालवा अभीतक की ताजा खबर सीधे पाने के लिए : 
ताज़ा ख़बर पाने के लिए एंड्राइड एप्लीकेशन इनस्टॉल करें :

शाजापुर पहुचे आईजी, डीआईजी, पुलिस अधिकारियों की ली बैठक त्योहार के इंतजाम देखे     |     नाल साहब की सवारी को लेकर कलेक्टर एवं एसपी ने किया जुलूस मार्ग का पैदल भ्रमण     |     वालेंटियर्स अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करें और पर्व के दौरान किसी भी तरह की गड़बड़ी नहीं होने दें – कलेक्टर सुश्री बाफना,एसपी यशपाल सिंह राजपूत ने नाल साहब जुलूस की बैठक में समाजजनो से कहा     |     धार में आकाशीय बिजली गिरने से तीन बच्चों की मौत, एक घायल     |     राजस्व महाअभियान का दूसरा चरण 18 जुलाई से शुरू, CM अधिकारियों को दिए ये निर्देश     |     रेलवे स्टेशन की छत का प्लास्टर झड़कर यात्री पर गिरा, फटा सिर, गंभीर हालत में अस्पताल भर्ती     |     PM कॉलेज ऑफ एक्सीलेंस के ID कार्ड में छात्रों की जाति पूछने पर बवाल…कांग्रेस बोली- पहले धर्म अब जाति के नाम पर बांट रही भाजपा     |     विजयपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव से पहले बड़ी हलचल, कांग्रेस के संपर्क में ये भाजपा नेता     |     इंदौर से रुठे इंद्र देव को मनाने की कोशिश… सुमित्रा महाजन ने इंद्रेश्वर मंदिर में की विशेष पूजा     |     अस्पताल की छत का भरभराकर गिरा प्लास्टर, ड्यूटी कर रही महिला कर्मचारी घायल     |