बड़ी ख़बर-21 जून को दोपहर 12:26 बजे छाया भी छोड़ देगी साथ, खबर में देखें कैसे

0 235

अक्सर लोग सोचते हैं कि हर दिन दोपहर में सूर्य ठीक सिर के ऊपर आ जाता है और हमारी छाया की लंबाई शून्य हो जाती है। पर, यह सच नहीं है। ऐसा साल में केवल दो दिन होता है, वह भी तब जब आप कर्क और मकर रेखा के बीच में कहीं रहते हों। हमारी छाया की लंबाई क्षितिज से सूर्य की ऊंचाई पर निर्भर करती है। दिन के आरंभ में यह लंबी होती है और जैसे-जैसे दिन चढ़ता है, छाया छोटी होती जाती है। मध्याह्न के समय तो हमारी परछाई सबसे छोटी हो जाती है। लेकिन, हर रोजछाया की लंबाई मध्याह्न के समय शून्य नहीं होती।

पृथ्वी की धुरी जिस पर वह घूमती है उसकी कक्षा (जिसमें वह सूर्य का चक्कर लगाती है) से 23.4 अंश पर झुकी रहती है। इसी कारण ऋतु परिवर्तन, सूर्य का उत्तरायण और दक्षिणायण, दिन की लंबाई का घटना-बढ़ना इत्यादि होता है।यही वजह है कि सूर्य खगोलीय विषुवत रेखा से 23.4 अंश उत्तर और इतना ही आकाश में दक्षिण की ओर जाता है। खगोलीय विषुवत से सूर्य के विस्थापन को क्रांति कोण या डेक्लिनेशन कहा जाता है। वर्ष में अलग-अलग समय पर सूर्य की स्थिति बदलती रहती है और वह शून्य से 23.4 अंश उत्तर और इतना ही दक्षिण की ओर जाता है। इस कारण सूर्य के कर्क, विषुवत और मकर रेखाओं के ठीक ऊपर चमकने के कारण मध्याह्न के समय सूर्य सिर के ठीक ऊपर होता है। इसीलिए, उन अलग-अलग तिथियों पर वहां किसी सीधी खड़ी वस्तु की छाया की लंबाई शून्य हो जाती है।

इसके अनेक प्रभाव पड़ते हैं; वर्ष में केवल वर्ष में दो दिवस 21 मार्च (वसंत) और 23 सितंबर (शरद) ऐसे होते हैं जब दिन और रात्रि की लंबाई समान होती है। ग्रीष्म ऋतु (21 जून) को सूर्य कर्क रेखा (23.4अंश उत्तर) के ठीक ऊपर चमकता है और क्रमशः दक्षिण की ओर बढ़ते हुए 22 दिसंबर (शीत ऋतु) को मकर रेखा ऊपर आ जाता है। 21 मार्च को कर्क रेखा पर दिन का प्रकाश 13.35 घंटे और रात्रि में अंधकार 10.25 घंटे रहता है। 22 दिसंबर को मकर रेखा पर भी यही घटनाक्रम होता है। इसी कारण उत्तरी गोलार्ध में 21 मार्च से दिन के प्रकाश का समय 12 घंटे से क्रमशः बढ़ते जाता है। यही ऋतु परिवर्तन का कारण है।

पृथ्वी की कर्क और मकर रेखाओं के बीच के क्षेत्र में 21 मार्च से 21 जून के बीच एक दिन ऐसा आता है जब किसी स्थान पर किसी वस्तु की छाया की लंबाई शून्य हो जाती है। उस दिन किसी सीधी खड़ी बेलनाकार वस्तु की छाया उसके नीचे छिप जाती है। 21 जून और 23 सितंबर के बीच एक बार फिर ऐसा होता है। दोपहर के समय इन दो दिनों को छोड़कर छाया की लंबाई कुछ न कुछ रहती है। छाया की लंबाई शून्य होने की तिथि इस बात से तय होती है कि उस स्थान का अक्षांश कितना है। विषुवत रेखा का अक्षांश शून्य होता है। इसी से अक्षांश की माप की जाती है।
शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय के विपनेट विज्ञान क्लब समन्वयक ओम प्रकाश पाटीदार ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते बच्चे शिक्षको के निर्देशन में इस महत्वपूर्ण खगोलीय घटना का अवलोकन अपने घरों से ही कर रहे है। पाटीदार ने बताया कि यह कोई मैजिक घटना नहीं है बल्कि एक खगोलीय घटना है। यह एक ऐसा खास दिवस है ,जिस दिन मध्याह्न के वक्त किसी भी खड़ी वस्तु की छाया ठीक उसके तल में होती है,जिस कारण हम उसे देख नहीं पाते हैं। हर एक साल में ऐसा दिन दो बार आता है।
शून्य छाया दिवस की घटना कर्क रेखा और मकर रेखा के बीच ही घटित होती है। इस दौरान भूमध्य रेखा के कर्क रेखा के बीच कुछ स्थानों पर सूर्य की किरणें सीधी पड़ती है जिस कारण वहां के लंबवत खड़ी किसी चीज की परछायी नहीं बनती है। परछायी न बनने की घटनाक्रम को खगोल विज्ञानी जीरो शेडो डे या शून्य छाया दिवस कहते हैं। शाजापुर शहर में शुन्य परछाई दिवस का अवलोकन 20 जून 2021 को दोपहर 12:26 तथा 22 जून 2021 को दोपहर 12:27 बजे किया जा सकता है।
प्राचार्य के के अवस्थी के अनुसार इस प्रकार की घटनाओं के अवलोकन से विद्यार्थियों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण का विकास होता है।
कर्क रेखा का अक्षांश 23.4अंश उत्तर और मकर रेखाका अक्षांश -23.4 अंश दक्षिण होता है। इस तरह कर्क रेखा के दक्षिण में स्थित भारत के सभी स्थानों में यह घटना होती है। कर्क रेखा के थोड़ा-सा दक्षिण में स्थित स्थानों में भोपाल, उज्जैन, शाजापुर शुजालपुर शामिल हैं। देश के एकदम दक्षिणी छोर पर स्थित कन्याकुमारी में 10 अप्रैल के आसपास ऐसा होता है। बेंगलुरु में यह घटना 24 अप्रैल और मुंबई में 16 मई को होती है। सूर्य के विषुवत से कर्क रेखा की ओरबढ़ते समय (उत्तरायण) अलग-अलग स्थानों पर शून्य-छाया-दिवस होता है। ठीक ऐसा ही एक बार फिर होता है जब सूर्य दक्षिणायण होकर वापस विषुवत (और फिर मकर रेखा) की ओर गति करता है। लेकिन, मानसून के कारण इन घटनाओं को प्रायः देखना मुश्किल होता है।
इस घटना को सिर्फ मकर व कर्क रेखा के बीच वाले स्थान पर ही देख सकते है। शाजापुर के उत्तर दिशा में कर्क रेखा की दूरी सिर्फ 4 किलोमीटर ही है इस कारण यह घटना आगर मालवा सही उत्तर दिशा के नई दिल्ली, जयपुर, लखनऊ और प्रयागराज जैसे कई जाने पहचाने और महत्वपूर्ण शहरों के नाम शून्य छाया दिवस नही देख सकते है। इसका कारण यह है कि इन शहरों में यह घटना नहीं होगी, बल्कि 21 जून को वहां स्थानीय मध्यान्ह के समय छाया की लंबाई न्यूनतम होगी

मालवा अभीतक की ताजा खबर सीधे पाने के लिए : 

नववर्ष पर शुरू किये पौधरोपण अभियान को लेकर शाजापुर कलेक्टर के बढ़ते कदम,आज 350 पौधे लगाए,देखें कार्यक्रम का पूरा कवरेज     |     शाजापुर जिले के एक सेल्समैन के विरूद्ध थाने में एफआईआर दर्ज     |     जिले में आज 26 कोरोना पाजीटिव मरीज मिले, 19 डिस्चार्ज भी     |     आवास पूर्ण नही करने वाले 185 हितग्राहियों को राशि वसुली के नोटिस     |     “Dewas'” सभी साथी पूरी पारदर्शिता के साथ समाजहित का काम करेंगे-नवनियुक्त अध्यक्ष इम्तियाज शेख ने कहा     |     एक व्यक्ति को शाजापुर कलेक्टर ने 6 माह के लिए किया निर्बंधित     |     अज्ञात आरोपी की गिरफ्तारी के लिए ईनाम घोषित     |     कलेक्टर ने टीम के साथ कन्टेन्मेंट क्षेत्र का निरीक्षण     |     आईपीएस तबादला लिस्ट जारी, अनिल कुमार शर्मा आईजी ग्वालियर बने, शाजापुर जिले के सबसे लोकप्रिय एसपी रहे श्री शर्मा     |     उज्जैन संभागायुक्त ने विकास खण्ड चिकित्सा अधिकारी को किया निलम्बित     |    

Don`t copy text!