डेंगू मलेरिया से बचाव के लिये ये खास खबर जरूर देखें

0 575

उज्जैन 07 सितम्बर। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.संजय शर्मा ने बताया कि मानसून के दौरान/मानसून के पश्चात मच्छरों के उत्पत्ति स्थल बढ़ जाने के कारण मलेरिया व डेंगू की परिस्थितियॉ निर्मित हो जाती है एवं मलेरिया व डेंगू का प्रसार अधिक होने लगता है। मलेरिया मादा एनाफिलीज नामक मादा मच्छर के काटने से फैलता है। अधिकाशतः मलेरिया के मच्छर रूके हुए पानी में पैदा होते हैं यह मच्छर जब मलेरिया से पीड़ित किसी मरीज को खून चूसता है तो मलेरिया के कीटाणु मच्छर के पेट में चले जाते हैं और मच्छर जब स्वस्थ व्यक्ति को काटता है तो उसके शरीर में मलेरिया के कीटाणु छोड़ देता है। कोई भी बुखार आने पर तुरन्त खून की जांच करायें, मलेरिया भी हो सकता है। मलेरिया पाये जाने पर पूर्ण उपचार लें।

ठंड देकर बुखार आना, पसीना देकर बुखार उतरना, कपकपी आना, जी मचलाना, सिर दर्द, उल्टी इत्यादि मलेरिया व डेंगू के लक्षण है। मलेरिया बीमारी के नियंत्रण के उपाय के लिये ही नही, बल्कि मच्छरजनित अन्य बीमारियों, जैसे-फाइलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया के प्रभावी नियंत्रण करना है।

डेंगू मलेरिया के लक्षण- सर्दी व कंपन के साथ बुखर तेज बुखार, उल्टियां और सिरदर्द। पसीना आकर बुखार उतरना बुखार उतरने के बाद थकावट व कमजोरी होना।

यदि बुखार हो तो क्या करे- बुखार आने पर तुरंत रक्त की जांच करायें। मलेरिया की पृष्टि होने का पूरा उपचार लें। खाली पेट दवा कदापि न लें। मलेरिया हेतु खून की जांच व उपचार सुविधा समस्त शासकीय अस्पतालों पर निःशुल्क उपलब्ध है।

डेंगू मलेरिया फैलाने वाले मच्छर कहॉ पैदा होते है- छत पर रखी पानी की खुली टंकियां। टूटे बर्तन, मटके, कुल्हड, गमलों में एकत्र जल में। बेकार फेकें हुए टायरों में एकत्र जल में। बिना ढंके बतनों में एकत्र जल में। कूलर में एकत्र जल में। किचन गार्डन में रूका हुआ पानी। गमले, फूलदान, सजावट के लिए बने फव्वारे में एकत्र जल में।

क्या करे- सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें। घर के आस-पास के गढ्डों को भर दे। पानी से भरों रहने वाले स्थानों पर टीमोफॉस, मिट्टी का तेल या जला हुआ इंजन ऑयल डालें। घर एवं आर-पास अनुपयोगी सामग्री में पानी जमा न होने दें। सप्ताह में एक बार अपने टीन, डिब्बा, बाल्टी इत्यादि का पानी खाली कर दें। दोबारा उपयोग होने पर उन्हें अच्छी तरह सुखायें। सप्ताह में एक बार अपने कूलर्स का पानी खाली कर दें, फिर सुखाकर ही उनका उपयोग करें। पानी के बर्तन आदि को ढक्कर रखें। हैण्डपंप के पास पानी एकत्र न होने दें

मालवा अभीतक की ताजा खबर सीधे पाने के लिए : 

नववर्ष पर शुरू किये पौधरोपण अभियान को लेकर शाजापुर कलेक्टर के बढ़ते कदम,आज 350 पौधे लगाए,देखें कार्यक्रम का पूरा कवरेज     |     शाजापुर जिले के एक सेल्समैन के विरूद्ध थाने में एफआईआर दर्ज     |     जिले में आज 26 कोरोना पाजीटिव मरीज मिले, 19 डिस्चार्ज भी     |     आवास पूर्ण नही करने वाले 185 हितग्राहियों को राशि वसुली के नोटिस     |     “Dewas'” सभी साथी पूरी पारदर्शिता के साथ समाजहित का काम करेंगे-नवनियुक्त अध्यक्ष इम्तियाज शेख ने कहा     |     एक व्यक्ति को शाजापुर कलेक्टर ने 6 माह के लिए किया निर्बंधित     |     अज्ञात आरोपी की गिरफ्तारी के लिए ईनाम घोषित     |     कलेक्टर ने टीम के साथ कन्टेन्मेंट क्षेत्र का निरीक्षण     |     आईपीएस तबादला लिस्ट जारी, अनिल कुमार शर्मा आईजी ग्वालियर बने, शाजापुर जिले के सबसे लोकप्रिय एसपी रहे श्री शर्मा     |     उज्जैन संभागायुक्त ने विकास खण्ड चिकित्सा अधिकारी को किया निलम्बित     |    

Don`t copy text!