संसाधन होने पर निजी चिकित्सालयों को कोरोना मरीजों के ईलाज के लिए शासकीय भवन दे सकते हैं- कलेक्टर श्री जैन

0 399

अस्पतालों में दवाओं, ऑक्सीजन, रेमडिसिविर इंजेक्शन आदि के क्रियान्वयन के लिए गठित समिति की बैठक

निजी चिकित्सालयों के पास में यदि मानव संसाधन, ऑक्सीजन आदि की व्यवस्था हो तो उन्हें कोरोना मरीज के उपचार के लिए शासकीय भवन उपलब्ध कराया जा सकता है। निजी चिकित्सालय उपलब्ध कराए गए भवन में अपने कोरोना मरीजों का उपचार कर उनसे न्यूनतम शुल्क ले सकते हैं। कोरोना वायरस (कोविड-19) की द्वितीय लहर में काफी संख्या में सक्रिय प्रकरण जिले में आ रहे हैं। इससे जिला चिकित्सालय पर भार बढ़ गया है। निजी चिकित्सालयों को कोरोना मरीजों के उपचार के लिए शासकीय भवन उपलब्ध कराने से जिला चिकित्सालय का भार कम होगा। यह बात कलेक्टर श्री दिनेश जैन ने आज अस्पतालों में दवाओं, ऑक्सीजन, रेमडिसिविर इंजेक्शन आदि के क्रियान्वयन के लिए गठित समिति की बैठक में कही। इस अवसर पर अपर कलेक्टर एवं समिति अध्यक्ष श्रीमती मंजूषा विक्रांत राय, डिप्टी कलेक्टर सुश्री प्रियंका वर्मा, सीएमएचओ डॉ. आर. निदारिया, सहायक खाद्य सुरक्षा अधिकारी श्री आरके कांबले, गोहिल संपूर्ण हॉस्पिटल शाजापुर के डॉ. प्रवीण सिंह गोहिल के डॉ. गोहिल, पाटीदार नर्सिंग होम के डॉ. राजकुमार पाटीदार, जश हॉस्पिटल शुजालपुर के डॉ. अपूर्व शर्मा, अरोग्य हॉस्पिटल शुजालपुर के डॉ. नरेन्द्र राजपूत, व्यास नर्सिंग होम के डॉ. शैलेश ठाकुर, वरदान हॉस्पिटल शाजापुर के डॉ. विकास सिंह, मेट्रो हॉस्पिटल शाजापुर के डॉ. जितेन्द्र पाटीदार तथा सिटी हॉस्पिटल शाजापुर एवं डीपी केयर हॉस्पिटल के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

इस अवसर पर कलेक्टर श्री जैन ने कहा कि वर्तमान में कोरोना महामारी के कारण संकट का दौर चल रहा है। सभी को धैर्य के साथ कोरोना संक्रमित व्यक्तियों का उपचार करना होगा। उन्होंने निजी क्षेत्र के सभी चिकित्सकों से कहा कि कोरोना संक्रमित मरीज को उतनी ही संख्या में रखें जितनों को वे सम्भाल सकते हैं। उन्होंने सभी चिकित्सकों से कहा कि अपने-अपने चिकित्सालयों में संसाधन बढ़ाए। ऑक्सीजनयुक्त बिस्तरों की संख्या में भी वृद्धि करें। अपने चिकित्सालयों में प्रदर्शित की गई दरों के अनुरूप भी मरीजों से शुल्क लें। महामारी के समय मरीजों से अधिक राशि नहीं वसूलें। कलेक्टर ने कहा कि निजी क्षेत्र के चिकित्सक यदि संसाधन सहित सामूहिक रूप से कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए तैयार होंगे तो जिला प्रशासन उन्हें उपचार के लिए शासकीय भवन उपलबध करा सकता है। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि निजी चिकित्सालयों को दिये गये रेमडिसिविर इंजेक्शन का हिसाब रखें एवं खाली वायल जिला प्रशासन को वापस करें। रेमडिसिविर इंजेक्शन के दुष्प्रभावों से मरीजों के परिजनों को अवगत कराएं। उन्हीं मरीजों के लिए इस इन्जेक्शन की अनुशंसा करें जिनको अत्यधिक इसकी आवश्यकता हो। इस अवसर पर उन्होंने दवा की दुकानों पर आवश्यक दवाईयों की उपलब्धता के बारे में पूछा। साथ ही उन्होंने जानकारी ली कि आवश्यक दवाईयों की कृत्रिम कमी तो उत्पन्न नहीं की जा रही है। यदि ऐसा हो रहा हो तो विक्रेताओं के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी। निजी क्षेत्र के चिकित्सकों ने बताया कि कुछ स्थानों पर मरीजों एवं उनके परिजनों द्वारा दुर्व्यवहार किया जाता है। कलेक्टर ने कहा कि किसी भी अस्पताल के चिकित्सक या पैरामेडिकल स्टाफ के विरूद्ध मरीजों एवं परिजनों द्वारा किये गये दुर्व्यवहार को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा, उनके विरूद्ध कठौर कार्यवाही होगी।

अपर कलेक्टर श्रीमती राय ने कहा कि निजी क्षेत्र के सभी चिकित्सालय अपनी क्षमता में वृद्धि करें। कोरोना प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन करें। सीएमएचओ डॉ. निदारिया ने भी कहा कि चिकित्सालयों में उपलब्ध बिस्तरों की तुलना में तीन गुना ऑक्सीजन सिलेंडर्स की आपूर्ति रखें।

मालवा अभीतक की ताजा खबर सीधे पाने के लिए : 

नववर्ष पर शुरू किये पौधरोपण अभियान को लेकर शाजापुर कलेक्टर के बढ़ते कदम,आज 350 पौधे लगाए,देखें कार्यक्रम का पूरा कवरेज     |     शाजापुर जिले के एक सेल्समैन के विरूद्ध थाने में एफआईआर दर्ज     |     जिले में आज 26 कोरोना पाजीटिव मरीज मिले, 19 डिस्चार्ज भी     |     आवास पूर्ण नही करने वाले 185 हितग्राहियों को राशि वसुली के नोटिस     |     “Dewas'” सभी साथी पूरी पारदर्शिता के साथ समाजहित का काम करेंगे-नवनियुक्त अध्यक्ष इम्तियाज शेख ने कहा     |     एक व्यक्ति को शाजापुर कलेक्टर ने 6 माह के लिए किया निर्बंधित     |     अज्ञात आरोपी की गिरफ्तारी के लिए ईनाम घोषित     |     कलेक्टर ने टीम के साथ कन्टेन्मेंट क्षेत्र का निरीक्षण     |     आईपीएस तबादला लिस्ट जारी, अनिल कुमार शर्मा आईजी ग्वालियर बने, शाजापुर जिले के सबसे लोकप्रिय एसपी रहे श्री शर्मा     |     उज्जैन संभागायुक्त ने विकास खण्ड चिकित्सा अधिकारी को किया निलम्बित     |    

Don`t copy text!