ओमिक्रॉन के नए XBB सब-वेरिएंट ने भारत में भी दी दस्तक, अब तक 4 राज्यों में 71 केस मिले

बीते 15 दिन की अवधि में, ओडिशा ने 33 मामले दर्ज किए, इसके बाद बंगाल में 17 और तमिलनाडु में 16 मामले सामने आए हैं. XBB, ओमिक्रॉन के BA.2.75 और BJ.1 वेरिएंट के संयोजन से बना है. यह पहली बार अगस्त में सिंगापुर और अमेरिका में डिटेक्ट हुआ था.

नई दिल्ली: भारत में ओमिक्रॉन के नए XBB सब-वेरिएंट के अब तक 71 मामले सामने आए हैं. महाराष्ट्र ने गुरुवार को XBB सब-वेरिएंट के 5 मामलों की पुष्टि की. इसके पहले पश्चिम बंगाल, ओडिशा और तमिलनाडु में इस सब-वेरिएंट से संक्रेमित मरीज मिल चुके हैं. बीते 15 दिन की अवधि में, ओडिशा ने 33 मामले दर्ज किए, इसके बाद बंगाल में 17 और तमिलनाडु में 16 मामले सामने आए हैं. XBB, ओमिक्रॉन के BA.2.75 और BJ.1 वेरिएंट के संयोजन से बना है. यह पहली बार अगस्त में सिंगापुर और अमेरिका में डिटेक्ट हुआ था. वैज्ञानिकों का मानना ​​​​है कि XBB सब-वेरिएंट इम्युनिटी को मात देने में सक्षम है, हालांकि यह अब भी स्पष्ट नहीं है कि क्या यह वायरस गंभीर बीमारी का कारण बनता है, जिससे संक्रमित होने वाले को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़े.

द टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक सिंगापुर ने कोरोनावायरस संक्रमण के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई है. हालांकि, वहां के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि अब तक XBB सब-वेरिएंट के परिणाम गंभीर होने का कोई सबूत नहीं मिला है. चूंकि डब्ल्यूएचओ ने ओमिक्रॉन को ‘चिंता का प्रकार’ करार दिया था, इसलिए इसके वंश और दूसरी पीढ़ी के वेरिएंट के साथ भी ऐसा ही व्यवहार किया जा रहा है. भारत में, जीनोम सीक्वेंसिंग में शामिल वैज्ञानिकों के मुताबिक देश के लगभग 88% नए संक्रमण BA.2.75 वेरिएंट के कारण हुए, जबकि कुल नए मामलों का लगभग 7% हिस्सा ही XBB सब-वेरिएंट के कारण था. वहीं संक्रमण में BA.5 वेरिएंट की हिस्सेदारी 5% से भी कम रही.

रिपोर्ट में महाराष्ट्र के जीनोम सीक्वेंसिंग के समन्वयक डॉ राजेश कार्यकर्ते के हवाले से लिखा गया है, ‘एक्सबीबी ओमिक्रॉन का एक हाइब्रिड वर्जन है. हम महाराष्ट्र में इसके प्रसार की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं. सिंगापुर में, XBB वर्तमान में अन्य सभी Omicron सब-वेरिएंट्स पर हावी है. दुनिया के कई हिस्सों में एक्सबीबी का पता चला है, लेकिन सिंगापुर में यह बहुत तेजी से बढ़ रहा है. तीन हफ्तों के भीतर, यह सब-वेरिएंट वहां के सभी दैनिक मामलों के आधे से अधिक के लिए जिम्मेदार हो गया है.’ सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्रालय (MOH) ने कहा है कि उसने नए वेरिएंट के ज्यादा संक्रामक होने, संक्रमित के गंभीर हो जाने और मौतों को लेकर सोशल मीडिया में अफवाहें फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है.

व्हाट्सएप के माध्यम से फैलाई जा रही अफवाहों के खिलाफ ऑनलाइन झूठ और हेराफेरी अधिनियम (Pofma) लागू किया जा रहा है. सिंगापुर में गत 11 अक्टूबर को कोरोनावायरस संक्रमण के 11,732 नए मामले दर्ज हुए थे. इनमें बड़े पैमाने पर एक्सबीबी वेरिएंट से संक्रमित होने वाले शामिल हैं. दो माह बाद 10 हजार से ज्यादा केस दर्ज हुए हैं. सिंगापुर के एमओएच ने कहा कि पिछले सप्ताह में संक्रमण में 22 फीसदी की वृद्धि हुई है. लगभग 55 फीसदी नए संक्रमण एक्सबीबी स्ट्रेन के हैं. इसे बीए.2.10 के नाम से भी जाना जाता है. सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री आंग ये कुंग के अनुसार एक्सबीबी अन्य सभी वैरिएंट की तुलना में ज्यादा सक्रिय नजर आ रहा है.

मालवा अभीतक की ताजा खबर सीधे पाने के लिए : 
ताज़ा ख़बर पाने के लिए एंड्राइड एप्लीकेशन इनस्टॉल करें :

पुलिस ने केजरीवाल को बीजेपी ऑफिस जाने से रोका, वापस लौटे AAP कार्यकर्ता, विरोध प्रदर्शन खत्म     |     स्वाति मालिवाल केस: केजरीवाल के घर पहुंची दिल्ली पुलिस, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस किए जब्त     |     शराब की बोतलें, इंजेक्शन और केबल तार से बंधे हाथ…कमरे में अस्पताल कर्मचारी का शव मिलने से हड़कंप     |     पश्चिम बंगाल में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, पुरुलिया में सड़क पर उमड़े लोग     |     फूलपुर में राहुल और अखिलेश की रैली में भीड़ हुई बेकाबू, मची भगदड़, कई घायल, बिना बोले निकले दोनों नेता     |     AAP को खत्म करने के लिए बीजेपी ने बनाए तीन प्लान… केजरीवाल ने पीएम पर भी बोला हमला     |     शिवपुरी में कलेक्ट्रेट परिसर में लगी भीषण आग, कई फाइलें जलकर हुई राख..     |     शाजापुर में अनियंत्रित होकर पलट गई जीप, दो महिलाओं की दर्दनाक मौत…     |     Nursing की छात्रा ने रेता अपना गला, कॉलेज प्रबंधन पर लगाए यह गंभीर आरोप, जानिए क्या है पूरा मामला…     |     प्यास इंसान को ही नहीं, पशु पक्षियों को भी लगती है, इंदौर में पंक्षियों के लिए किया जा रहा दाना पानी का अनोखा प्रयोग     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए सम्पर्क करें