VIDEO NEWS-शाजापुर में 200 साल पुराना है खजांची मन्दिर, तीन लाख रुपए की भारतीय विदेशी मुद्रा से होता है मन्दिर का श्रंगार,

शहज़ाद खान शाजापुर- त्यौहारों पर मंदिरों में साज-सज्जा तो आपने बहुत सी देखी होंगी, लेकिन क्या आपने किसी मंदिर को नोटो की करंसी से सजा हुआ मन्दिर देखा है, तो आइये आज हम आपको ऐसे ही एक मंदिर की और ले चलते है जहाँ श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर मंदिर को नोटों की करंसी से मन्दिर ओर मन्दिर में विराजमान भगवान को सजाया जाता है।

शाजापुर जिले के प्रसिद्ध खजांची मंदिर में कृष्ण जन्माष्टमी धूमधाम से मनाई जाती है। यह मंदिर राजस्थान स्थित झालरिया मठ डीडवाना के खजांची मंदिर की तर्ज बना है, जो 200 साल पुराना है। जन्माष्टमी के पर्व पर मंदिर में नोटों से विशेष सजावट की गई, जिसमें भारतीय मुद्रा सहित कई विदेशी मुद्राएं शामिल है। मंदिर की खास बात यह भी है कि यह मंदिर तो वैसे रामजी और सीता जी का है लेकिन श्री कृष्ण जन्माष्टमी को श्री राम की प्रतिमा को भगवान श्री कृष्ण का स्वरूप दिया जाता है।

साथ ही मंदिर की एक विशेषता यह भी है कि मंदिर की जब आरती होती है तो आरती शुरू होते ही यहाँ अचानक लोगों का जमावड़ा भारी संख्या में देखने को मिलता है।

देशी-विदेशी नोटों से सजा शाजापुर का यह खजांची मंदिर की विशेष सजावट देखने के लिए हजारों की संख्या में मंदिर पहुंचते है। लेकिन इस बार कोरोना जैसी महामारी के चलते इस बार मंदिर में कोई खास आयोजन नही होंगे।वही अनादि टीवी शाजापुर की टीम से बात करते हुवे मंदिर के पुजारी सीताराम तिवारी ने बताया कि भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव के अवसर पर मंदिर को विशेष रूप से नोटों से सजाया जाता है,जिसमें भारतीय मुद्रा के साथ अमेरिका, भूटान, मालदीव और सऊदी अरब की मुद्राएं भी शामिल होती है।पुजारी ने यह भी कहा कि हम साल भर की मेहनत जन्माष्टमी पर्व पर झोंक देते हैं।मंदिर को नोटों से सजाने की परंपरा 50 सालों से लगातार चली आ रही है।

खजांची मंदिर के पुजारी सीताराम तिवारी ने चर्चा के दौरान यह भी कि बताया उनके पिता पंडित दुर्गाशंकर तिवारी इस मंदिर में 68 साल पुजारी रहे। करीब 50 साल पहले उनके पिता ने एक रुपए के नोट से इस तरह श्रंगार की शुरुआत की थी। बढ़ती करंसी के साथ मंदिर को सजाने में अब तीन लाख भारतीय मुद्रा के साथ अमेरिका, भूटान, नेपाल सउदी अबर जैसे देशों की करंसी का उपयोग भी किया जाता है।

पुष्टिमार्गीय मंदिरों पर भी धूमधाम से मनाई गई जन्माष्टमी
शाजापुर के गोवर्धन नाथ हवेली और द्वारकाधीश हवेली पर कृष्ण भक्तों द्वारा भगवान श्री कृष्ण का जन्म उत्सव धूमधाम से मनाया गया यहां पर भगवान कृष्ण की प्राचीन मूर्तियों को पंचामृत से स्नान कराया गया जिसके बाद को रत्न जड़ित कपड़े पहनाए गए। रात को जैसे ही पुष्टिमार्गीय हवेलियों के पट खुले तो वहां पर श्री कृष्ण के दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी पुष्टिमार्गीय हवेली पर रात 12 बजे भगवान श्री कृष्ण का जन्म उत्सव मनाया गया।

मालवा अभीतक की ताजा खबर सीधे पाने के लिए : 
ताज़ा ख़बर पाने के लिए एंड्राइड एप्लीकेशन इनस्टॉल करें :

महावीर जयंती पर कलेक्टर ने दिलाई समाज जनों को मतदाता जागरूकता की शपथ, वीडियो देखें     |     रांची की रैली में अखिलेश यादव का हमला, कहा-BJP जुमलों की गारंटी लेकर आई है     |     400 सांसदों वाली पार्टी आज 300 सीट पर नहीं लड़ पा रही… जालौर में पीएम मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला     |     ईरान के हाथों में है इकोनॉमी की ‘दुखती रग’, टेंशन में आई सारी दुनिया     |     बिहार: ट्रक चालकों से होमगार्ड वसूल रहा था 500-500 रुपये, वीडियो वायरल होने पर गया जेल     |     झालावाड़ के बाद अब दौसा में भीषण सड़क हादसा, बारातियों से भरी बस और कार में टक्कर; 3 की मौत     |     चुनौतियों से भरा होता है बस्तर में वोटिंग कराना और EVM को सुरक्षित लाना, सुरक्षा में एक चूक पड़ सकती है भारी     |     मुरैना सीट पर हिंसक हुई चुनावी जंग, कांग्रेस प्रत्याशी के भाई पर फायरिंग…     |     मुकेश नायक का भाजपा पर हमला, बोले- पहले चरण में ही खोखला निकला दावा, बड़बोलेपन और झूठ का सहारा लेते हैं     |     इंदौर क्राइम ब्रांच ने आईपीएल पर सट्टा खिला रहे पांच युवकों को पकड़ा, पूछताछ में हुए कई खुलासे…     |    

Don`t copy text!
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए सम्पर्क करें