‘इस बार निशाना नहीं चूकेगा…’, लॉरेंस के खास शूटर अमन साहू की गैंग ने जेल अधीक्षक को दी धमकी

झारखंड की पलामू जेल से 13 दिन पहले गिरिडीह जेल शिफ्ट हुए गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के खास शूटर अमन साहू की गुंडागर्दी शुरू हो गई है. उसके गुर्गे अब जेल अधीक्षक को ही धमकी दे रहे हैं. गिरिडीह सेंट्रल जेल की अधीक्षक हिमानी प्रिया को अमन साहू गैंग के मयंक सिंह ने धमकी दी है. इसमें गिरिडीह जेल में अमन साहू को उसकी अपनी मनचाही सुविधा देने को कहा है. सुविधाएं न मिलने पर जेल अधीक्षक को गोली मारने की धमकी दी गई है.

इंटरनेशनल कॉल और मैसेज के जरिए गैंगस्टर मयंक ने कहा- पिछली बार निशाना चूक गया था. तत्कालीन जेलर प्रमोद कुमार इसमें बाल-बाल बच निकले थे. लेकिन इस बार का निशाना चूकेगा नहीं. गैंगस्टर ने जेल अधीक्षक को ये भी धमकी दी है कि उसके निशाने पर उनका पूरा परिवार भी है. इसलिए अमन साहू जेल में जो सुविधा चाहता है उसे पूरा करें.

इतना ही नहीं दो दिन पहले जेल अधीक्षक हिमानी प्रिया के मोबाइल पर भेजे गए मैसेज में मयंक ने कहा- वो अभी तुरंत अमन साहू से मुलाकात करें. अमन से पूछें कि उसे क्या-क्या सुविधाएं चाहिए. वह जो भी फरमाइश करता है उसे त्वरित पूरा करें. अन्यथा अंजाम भुगतने को तैयार रहें.

इसने पहले भी यहां के जेलर प्रमोद कुमार पर जानलेवा हमला किया गया था. जिसमें वो बाल-बाल बचे थे. लेकिन इन सबके बावजूद जेल आइजी सुदर्शन मंडल ने गिरिडीह जिला प्रशासन की रिपोर्ट को नजरअंदाज कर गैंगस्टर अमन साहू को मेदनीनगर से गिरिडीह सेंट्रल जेल में शिफ्ट करने की अनुमति दे दी.

क्या बोलीं जेल अधीक्षक?

धमकी मिलने पर जेल अधीक्षक हिमानी प्रिया ने कहा है कि वो किसी की धमकी से डरती नहीं है. गिरिडीह जेल के सारे कैदियों को जो सुविधाएं मिलती हैं वहीअमन साहू को भी मिलेगी. उसे कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं मिलेगा. धमकी से जुड़े सारे ऑडियो, मैसेज सहित अन्य तथ्यों से उन्होंने गिरिडीह के उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक व जेल आइजी सुदर्शन मंडल को अवगत करा दिया है. एसपी इस मामले में त्वरित संज्ञान लिया गया है. पुलिस हर पहलुओं पर जांच की जा रही है. इस पर लीगल कार्रवाई की जा रही है. इसके अलावा लगातार जेल का निरीक्षण भी किया जा रहा है.

जेलर को धमकी

इससे पहले अप्रैल 2022 में अमन साहू को गिरिडीह जेल लाया गया था. यहां आने के बाद 20 जुलाई 2022 को उसने तत्कालीन जेलर प्रमोद कुमार के वाहन पर गोली चलवाई थी. साथ ही तत्कालीन प्रभारी जेल अधीक्षक अनिमेष चौधरी से दो करोड़ की रंगदारी भी मांगी थी. फिर कांड के दूसरे दिन ही उसे गिरिडीह से सिमडेगा जेल भेज दिया गया था. बाद में सिमडेगा से पलामू की मेदिनीनगर जेल भेजा गया था. वहां उसने तत्कालीन जेल अधीक्षक जितेंद्र कुमार को भी फोन कर जान से मारने की धमकी दी थी.

मालवा अभीतक की ताजा खबर सीधे पाने के लिए : 
ताज़ा ख़बर पाने के लिए एंड्राइड एप्लीकेशन इनस्टॉल करें :

धार में आकाशीय बिजली गिरने से तीन बच्चों की मौत, एक घायल     |     राजस्व महाअभियान का दूसरा चरण 18 जुलाई से शुरू, CM अधिकारियों को दिए ये निर्देश     |     रेलवे स्टेशन की छत का प्लास्टर झड़कर यात्री पर गिरा, फटा सिर, गंभीर हालत में अस्पताल भर्ती     |     PM कॉलेज ऑफ एक्सीलेंस के ID कार्ड में छात्रों की जाति पूछने पर बवाल…कांग्रेस बोली- पहले धर्म अब जाति के नाम पर बांट रही भाजपा     |     विजयपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव से पहले बड़ी हलचल, कांग्रेस के संपर्क में ये भाजपा नेता     |     इंदौर से रुठे इंद्र देव को मनाने की कोशिश… सुमित्रा महाजन ने इंद्रेश्वर मंदिर में की विशेष पूजा     |     अस्पताल की छत का भरभराकर गिरा प्लास्टर, ड्यूटी कर रही महिला कर्मचारी घायल     |     MP के छतरपुर में होती है रावण की पूजा, 80 साल के रिटायर्ड शिक्षक ने घर में ही बनाया मंदिर     |     युवक की हत्या कर शव को खंडहर में फेंका, पुलिस और FSL टीम जांच में जुटी     |     MP महिला कांग्रेस की बड़ी बैठक, राष्ट्रीय अध्यक्ष अलका लांबा ने बीजेपी सरकार को जमकर घेरा     |